दुनियाभर में कोरोना के नए वेरिएंट का खतरा अभी भी जारी है। पहली, दूसरी के बाद तीसरी लहर की आशंकाओं के साथ आपके मन में सवाल उठ रहे होंगे कि क्या वैक्सीन से कोरोना ख़त्म हो जाएगा ? इस सवाल का जवाब अमेरिका के वाइट हाउस के चीफ मेडिकल एडवाइजर डॉक्टर एंथोनी पाउची ने दिया है। हालांकि उनका जवाब चौंकाने वाला है।

डॉक्टर एंथोनी पाउची ने कहा है कि इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि लोगों को अनिश्चितकाल के लिए कोरोना वैक्सीन के बूस्टर शॉर्ट्स की जरुरत पड़ सकती हैं। क्यों की वायरस लगातार शक्तिशाली होता रहा है। शुरुआत की तुलना में की हम अब वायरस के बारे में कोई अधिक जानते हैं। ऐसे कई कारक हैं जिनके आधार पर फैसले लिए जाते हैं जैसे क्या लोगो को नियमित रूप से साल में एक बार फ्लू शॉर्ट्स की तरह कोविड – 19 का टिका लगवाना पड़ेगा ?

हलाकि डॉक्टर फाउची ने यह भी कहा कि वैज्ञानिकों ने पहले ही पूरी तरह से वैक्सीन लगा चुके लोगों को बुस्टर शॉर्ट्स देने के लिए रिसर्च शुरू कर दी है। लेकिन सवाल उठता है कि अगर बूस्टर शॉर्ट्स लोगों को लगाया गया तो यह कब तक लोगों को कोविड-19 के खिलाफ सुरक्षा दे सकता है। इसका जवाब हम नहीं जानते हैं। हम इससे अनजान हैं। इस बारे में जानने का सिर्फ एक ही तरीका है कि आप क्लीनिकल रिसर्च जारी रखे।

यूएस फ़ूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन वैक्सीन बनाने वाली कंपनी फाइजर और मॉडर्ना के साथ काम कर रहा है ताकि कमजोर इम्यूनिटी वाले लोगों को कोरोना वैक्सीन बूस्टर शॉर्ट्स मिल सके। इसकी भी संभावना नहीं है कि वह बस्टर शॉर्ट्स को  को जल्द से जल्द लगाया जा सके। बूस्टर शॉर्ट्स उन लोगों को प्राथमिक रूप से दिया जाएगा जिनका इम्युनिटी सिस्टम कैंसर और ऑर्गन ट्रांसप्लांट जैसी बीमारियों के चलते प्रभावित हुआ हैं।

हमें नहीं लगता कि फ़िलहाल बूस्टर देने की कोई जरूरत हैं। एक रिसर्च के अनुसार तीसरी वैक्सीन उन लोगों के इम्यूनिटी सिस्टम को मजबूत करने में मदद कर सकती है जिन पर पहली और दूसरी डोज का कोई असर नहीं हुआ। हलाकि वैक्सीन के दो डोज के बाद वैक्सीन की तीसरी डोज यानि  बूस्टर की अनुमति मिल चुकी हैं।

फ्रांस और इसराइल जैसे देशों के बाद अमेरिका ने बूटेर डोज की अनुमति दे दी हैं।  दुनिया भर में मरीजों की संख्या 20 लाख के पार हो गया है अब तक दुनिया भर में 43,03,000 से ज्यादा मरीजों की मौत हो चुकी है।

By Rajesh