काबुल एयरपोर्ट के बहार धमाका, कौन है इसका जिम्मेदार

जिस चीज का डर था। जिस चीज को लेकर आगाह किया जा रहा था। आखिरकार कुछ वैसा ही हुआ है। काबुल एयरपोर्ट के बाहर से एक बड़ी खबर निकल कर सामने आई है। वहां पर धमाका हुआ है और इसकी पुष्टि की गई है। पेंटागन की ओर से इसकी पुष्टिकी गई हैं। काबुल एयरपोर्ट के गेट के बाहर यह धमाका हुआ है।

हालांकि इस धमाके में कितने लोग जख्मी हुए हैं। किसी की मौत हुई है या नहीं।  इस पर अभी भी संशय बरकरार है। लेकिन जिस तरह से भीड़ काबुल एयरपोर्ट के बाहर देखी जा रही थी। इनकार नहीं किया जा सकता है कि धमाके के बाद कई लोग घायल हुए हो।

दरअसल अगर बात हम काबुल की करे तो वहां पर खतरा मंडरा रहा था और इसीलिए अमेरिका, ब्रिटेन ने साफ तौर पर यह चेतावनी जारी करते हुए कहा था कि लोग सुरक्षित जगह पर जाएं क्योंकि वहां पर आतंकी हमले की गुंजाइश है। वहां पर खतरा है कि कोई आतंकी संगठन किसी तरह की वारदात को अंजाम दे सकता हैं।

इस बात को लेकर आशंका जाहिर किया गया था। अब यह खबर आई है कि काबुल एयरपोर्ट के बाहर गेट के पास धमाका हुआ है। पेंटागन की ओर से इसकी पुष्टि भी की गई है। हालांकि धमाके में कितने लोग घायल हुए हैं। कितने लोगों की मौत हुई है। इसकी पुष्टि अब तक नहीं की गई है।

हालांकि यह खबर निकल कर आई थी कि इटली के विमान पर फायरिंग भी की गई थी। वह विमान जब टेकऑफ कर रहा था। तब काबुल एयरपोर्ट पर विमान पर फायरिंग की खबरें भी निकल कर आई थी। हालांकि उसकी पुष्टि नहीं हुई है। लेकिन जो धमाका एयरपोर्ट के गेट के बाहर हुआ है।

उसको लेकर पुष्टि कर दी गई है। पेंटागन की ओर से और पेंटागन ने पहले भी चेतावनी दी थी। यह कहा था कि संभव है कि कोई आतंकी संगठन अफगानिस्तान के काबुल एयरपोर्ट के बाहर कोई बड़े धमाके कर सकता है और इसीलिए गुजारिश की जा रही थी कि नागरिक सुरक्षित जगहों पर जाए ताकि किसी भी तरह के डैमेज से बचा जा सके।

यदि हम अफगानिस्तान की बात करे तो जब से तालिबान ने अफगानिस्तान पर पूरी तरह से कब्जा किया है। कबूल एयरपोर्ट के बाहर लोगों की भीड़ है। लोग किसी भी तरह से देश छोड़ना चाहते हैं। क्योंकि तालिबानियों का जो रवैया रहा है। उससे अफगानी लोग भलीभांति परिचित हैं।

इसीलिए वह चाहते हैं कि किसी भी तरह वह देश से बाहर चले जाए ताकि उन्हें तालिबानियों से एक तरफ से छुटकारा मिले। इसीलिए एयरपोर्ट के बाहर बहुत सारे लोग इकट्ठा थे। बहुत सारे लोग वहां पर इस कोशिश में थे कि किसी भी तरह से देश छोड़कर चला जाए और इसी का फायदा किसी आतंकी संगठन ने उठा लिया।

By Rajesh