आईएसआईएस - K कौन है, उनका जन्म कैसे हुआ, तालिबान के साथ उनका रिश्ता क्या हैआईएसआईएस - K कौन है, उनका जन्म कैसे हुआ, तालिबान के साथ उनका रिश्ता क्या है

आईएसआईएस – K या इसे और विस्तार से कहें तो इस्लामिक स्टेट खोरासन प्रोविंस। खुद को इस्लामिक स्टेट कहने वाले चरमपंथी संगठन का क्षेत्रीय सहयोगी है। यह अफगानिस्तान और पाकिस्तान में सक्रिय है। अफगानिस्तान के सभी जिहादी चरमपंथी संगठनों में यह सबसे ज्यादा खतरनाक और हिंसक माना जाता है।

इराक और सीरिया में जब इस्लामिक स्टेट अपने चरम पर था तो जनवरी 2015 में ISKP की स्थापना हुई थी। पाकिस्तान दोनों ही जिहादियों की भर्ती करता है। तालिबान छोड़कर आने वाले उन लोगों को जो यह मानते हैं कि उनका अपना संगठन उतना कट्टर नहीं रह गया है।

हाल के सालों में हुए कुछ सबसे जानलेवा हमलो के लिए इस्लामिक स्टेट की खोरासन शासन को जिम्मेदार ठहराया गया है। इसके टारगेट पर लड़कियों के स्कूल अस्पताल और यहां तक कि अस्पताल का मेटरनिटी वार्ड तक रहा है। मैटरनिटी वार्ड पर हमले में इसके लड़ाकों ने गर्भवती महिलाओं और नर्सों को गोली मार दी थी।

आईएसआईएस के तालिबान की तरह नहीं है। जिसने अपनी पहुंच अफगानिस्तान तक सीमित रखी है। यह संगठन स्लामिक स्टेट के वैश्विक नेटवर्क का हिस्सा है। जिसका मकसद पश्चिमी अंतरराष्ट्रीय और मानवतावादी ठिकानों को निशाना बनाना है। चाहे वह कहीं भी क्यों ना हो।

अफगानिस्तान के पूर्वी प्रांत नांगरहार में आईएसआईएस – K का ठिकाना है। पाकिस्तान और अफगानिस्तान के बीच होने वाले नशीले पदार्थों का कारोबार और मानव तस्करी के रास्ते इसके पास से ही गुजरते हैं। एक वक्त था जब इस्लामिक स्टेट के पास लगभग 3000 लड़ाके हुआ करते थे।

लेकिन तालिबान अफगान सुरक्षा बलों पर अमेरिकी नेतृत्व वाली गठबंधन सेना के साथ मुठभेड़ में इसे काफी नुकसान पंहुचा हैं। इस बिच या भी सवाल उठ रहा है कि क्या इसका तालिबान से कोई रिश्ता हैं। कथित तौर पर कहे तो हां, यह कनेक्शन एक तीसरी पार्टी के जरिए है।

उसका नाम है हक्कानी नेटवर्क। शोधकर्ताओं का कहना है कि आईएसआईएस – K और हक्कानी नेटवर्क के बीच तगड़े कनेक्शन थे। इस दुनिया पर उनका तालिबान के साथ करीबी रिश्ता बन जाता है। तालिबान ने काबुल की सुरक्षा की जिम्मेदारी जिस सख्श को दी है वह हैं खलील हक्कानी।  अमेरिका ने खलील हक्कानी पर $50 लाख डॉलर का इनाम रखा हुआ है।

By Rajesh